Wednesday, November 5, 2008

जिंदगी

"ये जो है ज़िंदगी बस एक नाम है
बाकी सब इसमे नीरस, बेनाम है
न कोई इसे समझ पाया था,न कोई इसे समझ पाया है
ये तो चाँद सितारों से भी परे की बात है
ये जो है ज़िंदगी बस एक नाम है"

"कुछ लोग ज़माने में ऐसे भी होते हैं
पाकर ज़िंदगी बहुत खुश होते हैं
मगर नादान न समझकर इसका मोल
इसे यूँ ही मयकदों में खोते हैं
आती है जब मौत मिलने गले
तब है ज़िंदगी, है जिंदगी रोते हैं"

"इसलिए कहता हूँ साहिल
न कर जिंदगी से प्यार इतना
पड़े पछताना देख कर झूठा सपना
ये जिंदगी बस एक हसीं ख्वाब है
शायद इसलिए ही जिंदगी इसका नाम है"

"अक्स"

1 comment:

Ashutosh said...

You are genious !!!